Featured Post

Types of header file in c language by pcgyan1

Image
Hello welcome friends आज हम इस पोस्ट में बात करने वाले हैं c language में use किए जाने वाले header file के बारे में।

C program में उपयोग किए जाने वाले header file के नाम और इन्हें प्रोग्राम में क्यों शामिल किया जाता है उसके बारे में यहां पर बताया गया है।

C language में Header file में use किये जाने वाले विभिन्न Library Function की परिभाषाएं होती हैं। जब हम इन फंक्शन को अपने फाइल में उपयोग करते हैं तब इससे संबंधित है डर फाइल को प्रोग्राम के टॉप में इंक्लूड या शामिल करने की आवश्यकता होती है। इससे प्रोग्राम बिना किसी त्रुटि के या error के कंपाइल तथा रन होती है।

किसी भी header file का extension name dot h होता है तथा इन्हें प्रोग्राम में एक micro definition has include के साथ include किया जाता है यह निम्न प्रकार के हैं-

Types of header file
(1.) studio.h - इस Header File में Standard Input/Output Functions के Definitions होते हैं। इसे printf(), scanf(), fprint(), fscan() आदि के लिए Include किया जाता है।

(2.) conio.h इस Header File में Console Input/Output Functions के Definition होते हैं। इ…

Function kya hai

function

आपको आज मैं बताने वाला हूँ Function के बारे में जिसमें हम जानेंगे की Function क्या है और इसका उपयोग किसी प्रोग्राम में क्यों किया जाता है? उदाहरण के साथ।

Functions full detail
PCGYAN1

function क्या है ? :- 

C language में एक बड़े program को कई अलग-अलग sub program में Divide किया जा सकता है जिन्हें Module कहते हैं। ये module ही function कहलाते हैं। इस प्रकार Function एक Sub-program या Program segment है जो एक Particular task को Perform करता है। 
जैसे :- printf () , scanf(), sqrt() etc.
C language में Function का प्रयोग क्यों किया जाता है ?

C language में Function का प्रयोग program को अपने हिसाब से Exicute करने के लिए किया जाता है। इसके द्वारा बहुत बड़े-बड़े program को अपने हिसाब से छोटे-छोटे भाग में divide किया जा  सकता है। इस प्रकार इसके यहां पर दो प्रकार है-
C Language में function को दो भागों में वर्गीकृत किया गया है -

1. Library ()
2. User difine ()

1. Library function () :- 
        C language की library में पहले से बने हुए कई Function available हैं जिनका उपयोग कुछ Standerd व पहले से Define Operation को Perform  करने के लिए किया जाता है। ये Function C compiler के साथ प्रयोग किये जाते हैं। या उपलब्ध होते हैं। तथा Program में इन्हें उपयोग करने के लिए विभीन्न Header File की आवश्यकता होती है। इन functions को Build in function भी कहते हैं। 

जैसे - sqrt(), sin(), cos(),printf() , scanf () etc.

2. User define function :-
     प्रोग्रामर को Library function को छोड़कर कुछ ऐसे functions की Need होती है जो Special Operation को perform करे। इन function को User या Programmer के द्वारा build जाते हैं , इसलिए इसे User difine function कहते हैं। User define function को संक्षिप्त रूप में UDF कहते हैं।  
किसी भी User difine function को Main function के पहले या बाद में बना सकते हैं। तथा इसे उसके नाम से एक या एक से अधिक बार Call भी किया जा सकता है। किसी User define function में एक या अधिक Value ( C parameter ) या ( argument ) पास भी किया जा सकता है। 
Ex. 
दो number a तथा b को add करने के लिए C language में कोई भी Library function available नहीं है। 
pow(m,n) , sqrt(m) , add(c) etc.  

आगे हम c=a+b के लिए function प्रोग्राम बनाएंगे।     



Other topic

Comments

Popular posts from this blog

Word processing and its feature in Hindi

Variable kya hai ise kis prakar declare kiya jata hai